तुम साथ साथ हो ना ?

Sorry, your browser doesn't support Java(tm).


 

 

 

कभी मिलना कभी खोना कभी साथ साथ चलना
ये  है  जिंदगी का मेला  तुम साथ-साथ हो ना

 

 

कहीं भीड़ है घनेरी, कहीं राह है अँधेरी
कहीं रौशनी की खुशियाँ, कहीं मछलियाँ सुनहरी
कभी सीढ़ियों पे चढ़ना
कभी ढाल पर फिसलना
ये  है  जिंदगी का मेला  तुम साथ-साथ हो ना

 




कभी चर्खियों के चक्कर कही शोर यातना सा
कुछ फिकरे और धक्के कुछ मुफ्त बाँटना सा
रंगीन बुलबुलों सा
कभी आसमाँ में उड़ना
ये  है  जिंदगी का मेला  तुम साथ-साथ हो ना

 



कहीं मौत का कुआँ तो कहीं मसखरों के जादू
कभी ढेर भर गुब्बारे कहीं मोगरों की खुशबू
कभी जिंदगी को सिलना
कभी मौत को पिरोना
ये  है  जिंदगी का मेला  तुम साथ-साथ हो ना

 

 


 

 

 

1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।