Sorry, your browser doesn't support Java(tm).

 

फूलों की सुरंगों में


फूलों की सुरंगों में खुशबी का खजाना है
यह रूप का दरिया है और डूब के जाना है

वादों की उमंगों में विश्वास पुराना है
यह प्रेम का दरिया है और डूब के जाना है

 


 

इस मन की तरंगों में जीवन का तराना है
उत्साह का दरिया है और डूब के जाना है
 


 

आकाश के रंगों में सुब्हा का फसाना है
नव दिवस का दरिया है और डूब के जाना है

 

 

यादों के समंदर में रिश्तों का ठिकाना है
संसार का दरिया है और डूब के जाना है

हर शाम के कंधों पर इक शाम को आना है
आराम का दरिया है और डूब के जाना है

 


फूलों की सुरंगों में


 

 

 

 

   
1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

 सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।