व्यक्तित्व

 

  अभिव्यक्ति में
राजर्षि अरूण की रचनाएं

हास्य व्यंग्य में
काश दिल घुटने में होता
कुता

 


राजर्षि अरूण   


जन्म - 2 दिसम्बर 1969 को शाहपुर (बिहार)में

शिक्षा एम. ए. (हिन्दी तथा अंग्रेज़ी)

सम्प्रति - श्री कंवर तारा न्यास (बड़वाह) की ओर से इनकी सभी शैक्षिक संस्थाओं का संचालक

प्रकाशन - विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में कविताएँ, व्यंग्य और शैक्षिक व राजनैतिक आलेख प्रकाशित

"क्योंकि उसे भी अर्थ चाहिए" कवितासंग्रह प्रेस में।

संपर्क shwetarun@rediffmail.com