पुरालेख-तिथि-अनुसार-पुरालेख-विषयानुसार
हमारे-लेखक-लेखकों से पता-
teamabhi@abhivyakti-hindi.org

फरवरी २००१

इधर हम वसंत और गणतंत्र दिवस की तैयारियों में डूबे थे और उधर वक्त बागी़ हो गया। कम्प्यूटर पर समाचारों को खोजते अचानक एक संदेश टिमटिमाया। अभिव्यक्ति के परिचित कवि राज जैन की पंक्तियाँ थीं-   चार सासों की कितनी कीमत है मौत बस डर नहीं हकीकत है
     मुस्कुराने को मत कहो हमसे आज गम़गीन सी तबीयत है।
कमोबेश यह हर भूकंप साक्षी की आवाज़ थी। हम इस दैवी आपदा पर हर प्रकार से हाथ बटाने को तत्पर देश और देशवासियों के साथ हैं ।

 

इस अंक में-

उपहार में
वसंत पंचमी के अवसर पर


एक गीत और कहो
जावा आलेख हिंदी कविता के साथ
 

***

घर परिवार में
माटी कहे पुकार के



के अंतर्गत मिट्टी के टेराकोटा पात्रों का सुंदर संयोजन
 

***

रसोईघर में




अंजीर अनुपमा चीज संदेश और बादाम के साथ अंजीर का विशेष व्यंजन

 

पद्य में
हिन्दी कविताओं की एक सम्पूर्ण अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका वसंत रंग रांची

***

पर्व परिचय में
फरवरी माह के पर्व

फरवरी से वसंत पंचमी के साथ ही वसंत तु का प्रारंभ हो जाता है। इस अवसर पर प्रस्तुत है वसंत पंचमी सूरजकुंड शिल्प मेला अंतर्राष्ट्रीय योग सप्ताह मरूस्थल मेला नागौर मेला एलिफेंटा उत्सव दक्कन उत्सव ताज महोत्सव, गोआ कार्निवाल उपवन उत्सव और चंडीगढ़ के रमणीय गुलाब उत्सव की संक्षिप्त झाँकी संबंधित चित्रों के साथ।

 

***

स्वाद और स्वस्थ्य में
अनोखे अंजीर
के अंतर्गत अंजीर के गुणों की
चर्चा

***

फुलवारी में
इला प्रवीन की कहानी
जादू की छड़ी
और
पूर्णिमा वर्मन की कविता
भूरा भालू

 

ललित निबंध में
उमाकांत मालवीय की
वसंती रंगों में सराबोर रचना
यह पगध्वनि

***

कला दीर्घा में
कलमकारी के विषय में रोचक और उपयोगी जानकारी

साथ में-

हिन्दी के वरिष्ठ लेखकों द्वारा रचित आधे दर्जन से अधिक
हिन्दी कहानियाँ

***

हिन्दीतर भारतीय भाषाओं के वरिष्ठ लेखकों द्वारा रचित आधी दर्जन अनूदित कहानियाँ

***

काका हाथरसी की गुदगुदी कलम से निसृत हास्यव्यंग्य

***

अश्विन गांधी की कलम से तीखे और मनोरंजक दो पल

***

राजस्थान की भूमि से
सोने के शहर में रेत के सपने
पर्यटन में

***

प्रेरणाप्रद प्रसंगों का ख़ज़ाना
प्रेरक प्रसंग

प्रकाशन : प्रवीण सक्सेना -|- परियोजना निदेशन : अश्विन गांधी
संपादन, कलाशिल्प एवं परिवर्धन : पूर्णिमा वर्मन
-|-
सहयोग : दीपिका जोशी

1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।