मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


घर परिवार - गपशप

ख़तरों से सावधान
छोटा सा पप्पू
-भावना कुंअर

कितना प्यारा लगता है छोटा सा पप्पू! पप्पू वही कुत्ते या बिल्ली का छोटा सा बच्चा। हम सभी उसको अपने घर में रखना चाहते हैं। पर क्या हम उसकी ठीक से देखभाल कर रहे हैं?

पालतू जानवरों के लिए कई ऐसे ख़तरे होते हैं जिनका हमें अंदाज़ भी नहीं होता या हम अक्सर नज़र-अंदाज़ कर जाते हैं और होश तब आता है जब काफ़ी देर हो चुकी होती है। आइए देखते हैं वो क्या चीज़ें हैं जो हमारे पालतू जानवरों के लिए घातक सिद्ध हो सकती हैं-

घरेलू मशीनें -
क्या आपके घर में काग़ज काटने वाली मशीन यानी 'पेपर श्रेडर' तो नहीं, जिससे आप अपने अनावश्यक कागज़ों को छोटा-छोटा काटकर नष्ट करते हैं। अगर है तो इस बात का ध्यान रखना ज़रूरी है कि वह पालतू पशुओं की पहुँच से दूर रहे। अगर वह ज़मीन पर रखी है या आपके पालतू जानवरों के स्थान पर तो इससे आपका जानवर अंजाने में घायल हो सकता है। ऐसे कई किस्से सुनने में आते रहते हैं कि पालतू कुत्ते ने पेपर शे्रड़ मशीन से अपनी जुबान काट ली क्योंकि मशीन उसके बहुत क़रीब थी या पेपर के पीछे जाते समय मशीन के दाँतों को वह नहीं देख पाया।

क्या आपकी सिलाई मशीन किसी सुरक्षित स्थान पर जैसे अलमारी में बंद है?
क्योंकि बिल्लियाँ अक्सर धागे की ओर ज़्यादा आकर्षित होती हैं यही आकर्षण कभी-कभी उनके लिए जानलेवा भी बन जाता है अगर कहीं वह उनको निगल लें तो। सुई और धागे दोनों ही ख़तरनाक होते हैं। बड़े धागे उनकी आँतों में लिपट
सकते हैं और यही बात सुई पर भी लागू होती है जो उनके गले में फँस सकती है।

ख़तरनाक पौधे-
क्या आपने कभी सोचा है कि पौधे भी हानिकारक हो सकते हैं।
स्पाइडर प्लांट जैसे पौधे तो पालतू जानवरों के लिए हानिकारक नहीं हैं परंतु लिली या रबर प्लांट ख़ास तौर पर बिल्ली के
dieffenbachiaलिए हानिकारक सिद्ध हो सकते हैं क्योंकि वह हरे पत्तों को चबाना ज़्यादा पसंद करती है। जानी-मानी संस्था ए ए़स पी. सी. ए। 'एनीमल पोइज़न कंट्रोल सेंटर' के अनुसार लिली के पौधों का हर हिस्सा बिल्ली के लिए विष का काम करता है और कम मात्रा में खाए जाने पर भी बहुत ज़्यादा हानिकारक हो सकता है। संस्था ने ये भी चेतावनी दी है कि समय पर चिकित्सा न मिलने पर इसके प्रभाव से छत्तीस से बहत्तर घंटें में बिल्ली के गुर्दे बेकार हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त और पौधे भी हानिकारक हो सकते हैं जैसे- फिलोडेनडोन, डेइफ्फेनबाचिया, साईक्लेमेन, कार्न स्टाक प्लांट, सैगो पाम्स, रबर का पेड़ और बर्ड ऑफ़ पैरडाईस।

कृपया चाकलेट न दें-
इसके अतिरिक्त हमारी रसोई के खाद्य पदार्थों में भी कुछ चीज़ें उनके लिए हानिकारक सिद्ध हो सकती हैं उदाहरण के लिए हम में से अधिकतर लोग जानते हैं कि चाकलेट भी कुत्ते एवं बिल्ली के लिए ज़हरीली होती है। मिल्क चाकलेट की चा
र से दस औंस की मात्रा पालतू जानवर के बच्चों को मार सकती है।
क्या आप जानते हैं कि प्याज़ भी उनके लिए विषकारी हो सकती है?
कीटनाशक स्प्रे और चूहा व कॉकरोच मारने की दवाएँ भी पालतू जानवरों के लिए हानिकारक होती हैं। वे अपने उद्देश्य को तो पूर्ण करती हैं किंतु पालतू पशुओं के लिए बड़ा खतरा पैदा करती हैं। इधर-उधर अलमारियों और गैरज में सूघते-घूमते कुत्ते बिल्ली अगर उनको सूँघ लें तो वह वे सुरक्षित नहीं रह पाते।


ठंडे ठंडे पानी में नहाना चाहिए
ठंडे पानी में नहाना तो चाहिए मगर अपनी निगरानी में ही पालतू पप्पू को पानी में छोड़ें क्योंकि कुछ जानवर तो पानी से बाहर निकलना ही नहीं जानते। ज़मीन से ऊपर बनाए गए तरणताल में अंदर जाना तो आसान है लेकिन उससे बाहर निकलना उनके लिए मुश्किल हो जाता है।
इसके अतिरिक्त यह भी याद रखें कि तरणताल की सफ़ाई के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले रसायनों को भी हमें पालतू जानवरों से दूर रखना चाहिए। यदि आपका पालतू जानवर पूल में तैर रहा हो तो याद रखें कि उसको बाहर निकालकर डायर से या तौलिये की मदद से अच्छी तरह सुखा ज़रूर लें ऐसा न हो कि वह खुद को सुखाने के लिए अपने ऊपर लगे रसायन को चाट ले।

गर्मी के मौसम में-
पालतू पशु के पीने के पानी को ठंडा व साफ़-सुथरा रखें और उसको समय-समय पर बदलते रहें। उनके रहने के लिए छायादार स्थान बनाए जिससे उन्हें गर्मी न लगे। कभी भी अपने कुत्ते को अपनी कार के अंदर अधिक तापमान में न रखें। ध्यान रखें कि वह ज़्यादा गर्मी की वजह से जल्दी साँस लेना, बेचैनी महसूस करना, कमज़ोरी महसूस करना उल्टी आन, बेहोश होना जैसे लक्षणों का शिकार तो नहीं हो रहा। यदि आप ऐसे लक्षण देखे तो तुरंत उसको ठंडे पानी से भिगोए व ठंडी हवा दें तथा शीघ्र ही डॉक्टरी जाँच कराएँ।

९ दिसंबर २००६

1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।