मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


हमारे लेखक

AiBavyai> maoM 
p`ao hirSaMkr AadoSa kI rcanaayaoM 

inabaMQa
ko AMtga-t
p`vaasaI BaartIya AaOr ihndI

 

 

p`ao hirSaMkr AadoSa

अभिव्यक्ति में
प्रो हरिशंकर आदेश की रचनायें

निबंध
के अंतर्गत
प्रवासी भारतीय और हिन्दी



प्रो हरिशंकर आदेश
जन्मभूमि भारतवर्ष
कर्मभूमि ट्रिनिडाड कनाडा संयुक्त राज्य अमेरिका
जन्मतिथि 7 अगस्त 1936 ई0
शिक्षा एम।ए।ह्यहिन्दी संस्कृत संगीतहृऌ बी।टी।ऌ साहित्याचार्यऌ साहित्यालंकारऌ साहित्य रत्नऌ विद्या वाचस्पतिऌ संगीत विशारदऌ संगीताचार्य आदि
कार्यक्षेत्र : बहुमुखी प्रतिभा संपन्न प्रो आदेश ने कनाडा अमेरिका व ट्रिनिडाड के मिनिस्टर ऑफ रिलीजनऌ भारतीय विद्या संस्थान के महानिदेशक, श्री आदेश आश्रम ट्रिनिडाड के कुलपतिऌ ज्योति एवं जीवन ज्योति त्रैमासिक के प्रधान संपादक तथा वर्ष विवेक एवं अंतरिक्ष समीक्षा के संपादक जैसे महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया है। वे अंतर्राष्ट्रीय हिन्दू समाज अमेरिका तथा विद्या मन्दिर कनाडा के आध्यात्मिक गुरुऌ स्वतंन्त्र साहित्यकार एवं संगीतकारऌ वाग्गेयकारऌ संगीत निर्देशक गायक वादक प्रवाचक यायावर मानद उप राज्यपाल व भूतपूर्व सांस्कृतिक दूत ह्यभारतहृ भी रहे हैं। आश्रम कॉलिज ट्रिनिडाड में प्रधानाचार्य व हिन्दी तथा संगीत के प्रोफेसर के पद पर आपने महत्वपूर्ण सेवाएं समाज को अर्पित की हैं।

संप्रति वे मिनिस्टर ऑफ रिलीजन ह्यअमेरिका कनाडाहृ डाइरेक्टर जनरल भारतीय विद्या संस्थान इं। ट्रिनिडाड एंड टुबेगोऌ कनाडा तथा संयुक्त राज्य अमेरिका के पद पर कार्य कर रहे हैं।
सम्मान एवं पुरस्कार टिनिडाड, कनाडा, यू के व यू एस ए के अनेक प्रतिष्ध्ति सम्मानों व पुरस्कारों से सम्मानित।
कृतियाँ
हिन्दी अंग्रेज़ी व उर्दू की लगभग सभी विधाओं में साहित्य व संगीत की रचना। लगभग 160 पुस्तकें व 110 रेकार्ड प्रकाशित।
 

 

 
1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

 सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।