मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


व्यक्तित्व

अभिव्यक्ति में सुमति सक्सेना लाल की रचनाएँ

कहानियों में-

bullet

किस रास्ते पर

bullet

कौशल्या दी

bullet

दूसरी बार न्याय

bullet

फिर वही सवाल

bullet

विस्थापित

 

 

सुमति सक्सेना लाल

सन १९६५ में लखनऊ विश्वविद्यालय से एम.ए. करने के बाद उसी वर्ष से वहीं के एक संबद्ध महाविद्यालय में दर्शन शास्त्र पढ़ाने लगी थी। सन् १९६८ में धर्मयुग में पहली कहानी चौथा पुरुष छपी थी। उसके बाद पाँच छह वर्षो तक धर्मयुग, साप्ताहिक हिन्दुस्तान और सारिका में कहानियाँ छपती रहीं। फिर लगभग तीस सालों का लंबा मौन। बीच के इन वर्षो में सन् १९८१ में साप्ताहिक हिन्दुस्तान में एक कहानी ‘‘दूसरी शुरुआत’’ मात्र छपी थी।

२००५ से पुनः निरंतर लिखना शुरु किया है। इन वर्षो में हंस, नया ज्ञानोदय, कथादेश और नवनीत आदि में कहानियाँ छपी हैं। सन २००९ के आरंभ में एक कहानी संग्रह ‘‘अलग अलग दीवारें’’ भारतीय ज्ञानपीठ से और इस वर्ष के आंरभ में एक कहानी संग्रह ‘‘दूसरी शुरूआत’’ पैन्गुइन यात्रा बुक्स से छपा है। एक उपन्यास अभी लिखा है जो विचाराधीन है। जानती हूँ कि उम्र के आख़िरी पड़ाव में हूँ...या तो अभी या फिर कभी नहीं।

ई मेल : sumati1944@gmail.com

1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।