मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


ध्यान रखेंगे



—दिविक रमेश
१  अप्रैल २००३

 
मेरी बिल्ली, आंछी आंछी
अरे हो गया उसे जुकाम

जा चूहे ललचा मत जी को
करने दे उसको आराम

दूध नहीं अब चाय चलेगी
थोड़ा हलुवा और दवाई

लग ना जाए आंछी हमको
ध्यान रखेंगे अपना भाई
 
 
1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।