प्रौद्योगिकी

ऑफ़ लाइन खोज वेबारू से
-रविशंकर श्रीवास्तव

सर्च अनप्लग्ड - यह नारा है एक नए, ताज़ातरीन इंटरनेट स्टार्टअप वेबारू का। इसको प्रस्तुत किया है अत्यंत सफल एंटरप्रेन्योर तथा प्रोग्रामर - राकेश माथुर ने, जिनके पहले के तीन स्टार्टअप भी काफ़ी सफल रहे थे।
1

एक अनुमान के अनुसार इंटरनेट पर 20 बिलियन जाल पृष्ठ हैं जिनका कुल सम्मिलित आकार लगभग दस लाख जी.बी़. है। वेबारू द्वारा विशिष्ट अल्गोरिदम का प्रयोग कर इस 10 लाख जी. बी. ड़ाटा को 40 जी. बी. में संपीडित किया जा कर विषय वार टुकड़ों में विविध वेब पैकों के रूप में पर्सनल कंप्यूटरों के हार्डडिस्क, पीडीए, स्मार्टफ़ोनों में रखे जाने की योजना है। यही नहीं, इन वेब पैकों को विविध मीडिया, जैसे कि सीडी रॉम, मेमोरी स्टिक, बाहरी हार्डडिस्क इत्यादि के ज़रिए भी वितरित किए जाने की योजनाएँ हैं। इन्हीं वेब पैकों के संपीडित डाटा में से इंटरनेट की तमाम सामग्री तीव्र गति से, ऑफलाइन रहते हुए ढूँढी जा सकती है। समय-समय पर इस डाटा को अद्यतन भी किया जा सकता है।

वेबारू दरअसल एक तरह का विंडोज़ अनुप्रयोग है जो आपको किसी भी वेब ब्राउजर पर ऑफलाइन खोज तथा ब्राउज़ करने की सुविधा देता है। परंतु जैसा कि ऊपर बताया गया है, यह सुविधा आपको या तो विशेष तौर पर तैयार किए गए वेब पैक के ज़रिए ही मिलती है जिसे कंप्यूटर हार्डडिस्क पर पहले से भंडारित किया जाता है या निर्दिष्ट जाल स्थलों के वेबारू द्वारा पहले से डाउनलोड किए हुए कंप्यूटर हार्डडिस्क पर भंडारित किए गए पृष्ठों में ही मिलती है।

वेबारू 5 मे बा. का. डाउनलोड है। और इसके विविध विषयों पर केंद्रित वेब पैक सैकड़ों मेगाबाइट के अलग-अलग डाउनलोड हैं जैसे कि स्वास्थ्य संबंधी वेब पैक 186 मे बा.का. है। विकिपीडिया का समग्र डाटा 8 जी. बी. वेब पैक में समाया हुआ है। मुंबई का वेब पैक 26 मे. बा. का है। मुंबई वेब पैक प्रयोग करने पर मुंबई शहर से संबंधित तमाम चित्रमय जानकारियाँ आपको ऑफलाइन उपलब्ध हो जाती हैं। बहुत-सी अतिरिक्त जानकारियाँ उपलब्ध नहीं हो पातीं उनके लिए वेबारू आपको ऑनलाइन ढूँढ़ने का विकल्प भी प्रदान करता है।

अभिव्यक्ति तथा छींटें और बौछारें की सामग्रियों को वेबारू के ज़रिए ऑफलाइन डाउनलोड कर सामग्रियों की खोज करने की कोशिश की गई तो यह औज़ार जाल कड़ियों के सिर्फ़ एक कड़ी भीतर तक जाकर ही सामग्रियों को डाउनलोड कर सका। लिहाज़ा दोनों ही जाल स्थलों में प्रारंभ के 70-80 पृष्ठ ही डाउनलोड हो पाए। इस लिहाज़ से यह निर्दिष्ट जाल स्थलों की सामग्रियों को ऑफलाइन ढूँढ़ने में एक तरह से असमर्थ ही रहा। वेबारू अगर अभिव्यक्ति का संपूर्ण वेब पैक तैयार करे तो संभवत: उसमें ऐसी समस्या न आए। इसी तरह उपयोक्ता द्वारा स्वयं का या सामाजिक वेब पैक तैयार करने का विकल्प भी नहीं है। अभी तो वेबारू का यह बीटा संस्करण ही है - पूर्ण संस्करण में संभवत: इन ख़ामियों को दूर कर लिया जाएगा।

ऑफलाइन ब्राउज़र की कल्पना ब्राउज़रों के इतिहास के साथ से ही चली आ रही है। वेबारू इसे नए ढंग से परोसने की कोशिश कर रहा है। वैसे भी, यदि वेबारू के ज़रिए आपके पास सिर्फ़ एक डीवीडी में विकिपीडिया की संपूर्ण सामग्री उपलब्ध हो जाए या फिर एक सीडी में संपूर्ण अभिव्यक्ति की सामग्री उपलब्ध हो जाए, तो आपको बिना ऑनलाइन हुए ज्ञान का, इंटरनेट की सामग्री का इस्तेमाल लायक भंडार प्राप्त तो हो ही जाता है।

24 नवंबर 2006