आपकी प्रतिक्रिया 

   लिखें पढें 

 1 अप्रैल 2001

कहानियांकविताएंसाहित्य संगमदो पलकला दीर्घासाहित्यिक निबंधउपहारविशेषांक
फुलवारीहास्य व्यंग्यप्रकृति पर्यटनसंस्मरणप्रेरक प्रसंगरसोईस्वास्थ्यघर परिवार
पर्व परिचयशिक्षास्रोतआभारलेखकसंपर्क 

कला दीर्घा में 
भारतीय लोककलाओं से परिचय की श्रृंखला में
तंजावुर शैली के चित्र

.तंजवुर चित्रों के विषय धर्म और पौराणिक कथाएं हैं। अधिकतर चित्रों में आपको नवनीत कृष्ण के दर्शन होंगे जिसमें वे रत्नों और आभूषणों से सुसज्जित फूल पत्तियों की पृष्ठभूमि में हाथ में मक्खन लिये मुस्कुरा रहे हैं। एक और प्रमुख दृष्य श्री राम के राज्याभिषेक का है।

स्वाद और स्वास्थ्य में 
कमाल के केले
के अंतर्गत केले के गुणों की चर्चा

यही एक अकेला फल है जो अल्सर की बीमारी में बेझिझक खाया जा सकता है। यह अम्लता ऋऐसिडिटीऋ को कम करता है और पेट में हल्की परत बना कर अल्सर का दर्द कम करता है।  यह अतिसार और कब्जऋ दोनों में लाभकारी है।  यह आंत की सारी प्रक्रिया को सामान्य कर सकता है।  केले के गूदे में नमक डाल कर खाना अतिसार के लिए अच्छा होता है।

 

पर्व परिचय में 
अप्रैल माह के पर्व मेले और उत्सवों के विषय में रोचक जानकारी  

 

बच्चों की फुलवारी
में गौरव गुप्ता की कहानी
गल्लू सियार का लालच

एक दिन गल्लू सियार जंगल में घूम रहा था कि उसे रास्ते में एक चादर मिली।  जाड़े के दिन नज़दीक थे इसीलिए उसने चादर को उठाकर रख लिया।  उसके बाद वह घर की ओर चल दिया।

और कविता बंदर मामा
 

प्रेरक प्रसंग में 
प्रेरणाप्रद प्रसंगों के ख़ज़ाने का एक और मोती 
कानून का पालन . . ."कानून का पालन न करना भीरूता है।" पुलिस की अनुपस्थिति में कानून तोड़ना कोई साहस की बात नहीं है। हमें कोई देख रहा है अथवा नहीं इसकी चिंता न करते हुएऋ हमें व्यक्तिगत अथवा सामाजिक कानूनों का पालन करना ही चाहिये फिर इसमें हमें कितना ही कष्ट क्यों न उठाना पड़े।

रसोईघर  में
एक अनोखी आइसक्रीम
हिम कदली
1
नये अंकों की सूचना के लिये
अपना इ मेल यहां लिख कर भेजें।


 

कविताओं की पत्रिका
अनुभूति में

आमंत्रण

उपहार में
गर्मियों में पहाड़ पर
 एक और ज़बरदस्त जावा आलेख
हिन्दी कविता के साथ

हम थे तुम थे साथ नदी थी

 

घर परिवार
  के अंतर्गत
तनाव मुक्त जीवन

आफिस के कपड़े जिन में दिन भर का तनाव झेला था बदल डालें ढीले मुलायम और आरामदायक कपड़े पहन लें।  आंखें बन्द करें थोड़ा आराम कर लें सोचें कि आपको अपने लिये भी समय की आवश्यकता है। 

कहानियां कविताएं निबंध हास्य व्यंग्य दो पल तथा 
सभी स्थायी स्तंभ
 

 

कहानियांकविताएंसाहित्य संगमदो पलकला दीर्घासाहित्यिक निबंधउपहारविशेषांक
फुलवारीहास्य व्यंग्यप्रकृति पर्यटनसंस्मरणप्रेरक प्रसंगरसोईस्वास्थ्यघर परिवार
पर्व परिचयशिक्षास्रोतआभारलेखकसंपर्क 

 सर्वाधिकार सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरूचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों  अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुर्नप्रकाशन की अनुमति नहीं है।यह पत्रिका प्रति सप्ताह परिवर्धित होती है।

प्रकाशन : प्रवीन सक्सेना परियोजना निदेशन : अश्विन गांधी
संपादनऋ कलाशिल्प एवं परिवर्धन : पूर्णिमा वर्मन 
  सहयोग : दीपिका जोशी
तकनीकी सहयोग:
 प्रबुद्ध कालिया