मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


व्यक्तित्व

अभिव्यक्ति में  
विमल झाझरिया की I 
रचनायें  

घर परिवार में
वास्तुविवेक के अंतर्गत
पंचतत्व और ऊर्जा के कोण
दिशाएं और उनके लाभ
भूखण्डों का चुनाव

 


विमल झाझरिया

1955 में जन्मे विमल झाझरिया नये पीढ़ी के उन वास्तुविशेषज्ञों में से हैं जिन्होंने वास्तु शास्त्र को आधुनिक परिप्रेक्ष्य में नयी दिशा दी है। घर को तोड़फोड़ के बिना मंगलिक बनाने की प्रक्रिया में उन्होंने नये प्रयोग किये हैं जो काफी सफल माने जाते हैं। भारत में कानपुर स्थित उनके वास्तु शिल्प केन्द्र में वास्तु शास्त्र की शिक्षा व नये प्रयोग निरंतर चलते रहते हैं।

प्रसिद्ध वास्तु शास्त्री नंदकिशोर झाझरिया के पुत्र विमल झाझरिया ने यूरोप, आस्ट्रेलिया तथा अरब देशों की नियमित यात्रा यात्राएं करते हुए वास्तु का प्रचार प्रसार कर उसको लोकप्रिय बनाने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाये है। लंदन के भारतीय विद्याभवन में व्याख्यान देने का गौरव उन्हें प्राप्त है।

विमल झाझरिया के जालघर वास्तुकल्प पर वास्तु संबंधी अनेक जानकारियां उपलब्ध हैं।

वे अभिव्यक्ति के लिये वास्तुविवेक शीर्षक से विशेष लेखमाला लिख रहे हैं।

संपर्क : info@vastukalp.com

 
1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

 सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।