व्यक्तित्व

अभिव्यक्ति में डॉ असग़र वजाहत की रचनाएँ

उपन्यास अंश
राजधानी में हार
ह्यकैसी आग लगाई सेहृ
नगरनामा
इस पतझर में आना
 

 


डॉ असग़र वजाहत

जन्म : ५ जुलाई १९४६, फतेहपुर (उ.प्र.) में।
शिक्षा : एम.ए. (हिंदी) और पीएच डी. अलिगढ़ मुस्लिम यूनीवर्सिटी से। डॉक्टरेट के बाद का शोधकार्य जवाहरलाल नेहरू यूनीवर्सिटी से।

कार्यक्षेत्र :
लेखन का आरंभ १९६० में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में अध्ययन के समय से हुआ। लघु कथा, नाटक, उपन्यास और अन्य कई विषयों पर लेख अलग–अलग प्रकाशित। अभी तक १९ पुस्तकें प्रकाशित जिनमें पांच कथासंग्रह, चार उपन्यास, छे नाटक और नुक्कड़ नाटकों के संग्रह शामिल हैं। कहानियों के हिंदीतर अनेक भारतीय व अंग्रेजी, रूसी तथा इतालवी भाषाओं में अनुवाद प्रकाशित। 'जिस लाहौर न वेख्या...  नाटक की विश्व भर में अनेक प्रस्तुतियाँ।
 
चलचित्रों की पटकथा का लेखन और टेलीविजन सिरियल्स के निर्देशन का अनुभव। कोलाज, रेखाचित्रण व छायाचित्रण का शौक। पाँच साल तक बुदापेस्ट, हंगेरी में हिंदी के प्रोफेसर। अनेक पुरस्कारों व सम्मानों से सुशोभित।

संप्रति :
जामिया मिलिया इस्लामिया यूनीवर्सिटी में प्रोफ़ेसर और हिंदी के विभागाध्यक्ष।

ई मेलः
awajahat@hotmail.com