मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


उपन्यास अंश

भारत से असग़र वजाहत के उपन्यास 'कैसी आग लगाई' का एक अंश 'राजधानी में हार'


लोग कहते हैं अफीमची बड़े 'पैसिव' होते हैं। लेकिन बाबा के साथ ऐसा नहीं है। जब कभी उसे टाइप का ज़्यादा काम करना होता था तो आफ़िस के बाद करता था। मैं भी अक्सर बैठा रह जाता था। बीच-बीच में बातचीत भी होती रहती थी और बाबा को अक्सर गुस्सा आ जाता था। और पता नहीं क्यों, वह हाथ धोकर मेरे पीछे पड़ा हुआ था कि मैं वापस अपने वतन चला जाऊं और आराम से रहूं। खेती करूं। आज भी बात घूम-फिर कर वहीं आ गई।
"तो कितना अनाज पैदा हो जाता है तुम्हारी ज़मीनों में।" उसने पूछा।
"देखो, हमारी तरफ़ की खेती उतनी अच्छी नहीं है जैसी हरियाणा या पंजाब की है। और फिर बटाई पर खेती कराते हैं। बटाई समझते हो?"
"हां-हां . . .आगे बताओ।"
"पिछले साल मैंने पच्चीस मन गेहूं बेचा है। सात मन के करीब धान भी हो जाता है। लाही सरसों भी डेढ़-दो मन हो जाती है। आम का बाग़ दो हज़ार साल में उठता है। खाने को आम अलग से मिलते हैं।"
वह सीधा होकर बैठ गया।
"तुम सच कह रहे हो?"
"यार, मैं झूठ क्यों बोलूंगा।"
"तुम पागल हो . . .पागल।"
"क्यों?"
"यहां क्यों पड़े हो?"

पृष्ठ 1.2.3

आगे—

 
1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

 सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।