मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


व्यक्तित्व

अभिव्यक्ति में कुमार रवीन्द्र की रचनाए

निबंध-

bullet

अज्ञेय की असाध्य वीणा

पर्यटन-

bullet

एक-स्मृति-यात्रा-महोबा-होकर-खजुराहो-की

bullet

यात्रा-एक-कलातीर्थ-की- अजंता-एवं-अलोरा

रचना प्रसंग-

bullet

इक्कीसवी सदी का नवगीत चुनौतियाँ एवं संभावनाएँ

bullet

लोक संस्कृति और नवगीत

bullet

नवगीत का शृंगार बोध

bullet

समकालीन हिंदी नवगीत

संस्मरण-

bullet

गीत लिखा प्रीत लिखा

bullet

नवगीत के 'अवांगार्ड' कवि डॉ.शिवबहादुर सिंह भदौरिया

अनुभूति में कविताएँ

 


कुमार रवीन्द्र  

जन्म : १० जून १९४०, लखनऊ, उत्तर प्रदेश में।
शिक्षा : एम. ए. (अंग्रेज़ी साहित्य)

कार्यक्षेत्र : अध्यापन- दयानंद कालेज, हिसार (हरियाणा) के स्नातकोत्तर अँग्रेज़ी विभाग के अध्यक्ष पद से सेवानिवृत्त। हिंदी-अँग्रेज़ी दोनों भाषाओं में काव्य-रचना।

प्रकाशित कृतियाँ :
नवगीत संग्रह: आहत है वन, चेहरों के अंतरीप, पंख बिखरे रेत पर, सुनो तथागत, और हमने संधियाँ कीं।
मुक्त छंद की कविताओं का संग्रह: 'लौटा दो पगडंडियाँ' काव्य नाटक: एक और कौंतेय, गाथा आहत संकल्पों की, अँगुलिमाल, कटे अँगूठे का पर्व और कहियत भिन्न न भिन्न प्रमुख समवेत काव्य संकलन:
नवगीत संग्रह : 'नवगीत दशक-दो' - 'नवगीत अर्धशती' ( सम्पादक: डा. शम्भुनाथ सिंह )
'यात्रा में साथ-साथ' ( सम्पादक: देवेन्द्र शर्मा 'इन्द्र' )
दोहा संग्रह : 'सप्तपदी-एक' ( सम्पादक : देवेन्द्र शर्मा 'इंद्र')
ग़ज़ल संग्रह : 'ग़ज़ल दुष्यंत के बाद' - खंड: एक ( सम्पादक: दीक्षित दनकौरी)
'हिन्दुस्तानी गज़लें' ( सम्पादक: कमलेश्वर)
अन्य : 'बंजर धरती पर इन्द्रधनुष' ( सम्पादक: कन्हैयालाल नंदन )
देश विदेश की सभी प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित। अनेक राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय सम्मानों व पुरस्कारों से विभूषित।

ई-मेल : kumarravindra310@gmail.com 

1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।