मुखपृष्ठ

पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार हिंदी लिंक हमारे लेखक लेखकों से
SHUSHA HELP // UNICODE  HELP            पता- teamabhi@abhivyakti-hindi.org


व्यक्तित्व


अभिव्यक्ति में डॉ. प्रभा खेतान
की रचनाएँ

उपन्यास
आओ पेपे घर चलें

 

  प्रभा खेतान

१ नवंबर १९४२ को जन्मी प्रभा खेतान दर्शनशास्त्र से एमए और ज्यां पाल सा‌र्त्र के अस्तित्ववाद पर पीएचडी के लिए जानी जाती थीं। कविता, कहानी, उपन्यास और आत्मकथा के साथ अपने विशिष्ट अनुवादों के लिए हमेशा उनकी सराहना हुई।

अपरिचित उजाले, कृष्णधर्मा मैं, छिन्नमस्ता, पीली आंधी उनकी अमर कृतियाँ हैं। दो लघु उपन्यास 'शब्दों का मसीहा सा‌र्त्र', 'बाजार के बीच: बाजार के खिलाफ' सहित कई चिंतन पुस्तकें, तीन संपादित पुस्तकें, आत्मकथा 'अन्या से अनन्या' और 'द सेकेंड सेक्स' के अनुवाद के लिए वे काफी चर्चित रहीं। उन्होंने कई दक्षिण अफ़्रीक़ी कविताओं का अनुवाद भी किया।

उन्हें साहित्यिक योगदान के लिए महापंडित राहुल सांकृत्यायन पुरस्कार व बिहारी पुरस्कार से सम्मानित किया था। प्रभा खेतान विभिन्न सामाजिक संस्थाओं से भी जुड़ी थीं।  

 

इस रचना पर अपनी प्रतिक्रिया लिखें - दूसरों की प्रतिक्रिया पढ़ें

Click here to send this site to a friend!

पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार हिंदी लिंक हमारे लेखक लेखकों से
SHUSHA HELP // UNICODE  HELP / पता- teamabhi@abhivyakti-hindi.org

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।