मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


श्रद्धांजलि                         उस्ताद बिस्मिल्लाह खां

हनाई का जादूगर
और संगीत का
सिरताज उस्ताद तो
हमारे बीच नहीं रहा
पर वह सदा के
लिए सुरों की ऐसी
वसीयत छोड़ गया है
जो पीढी दर पीढ़ी
संगीत के साधकों को
मालामाल रखेगी।
अभिव्यक्ति परिवार की
ओर से भावभीनी श्रद्धांजलि!
प्रस्तुत हैं  दो  विशेष लेख
उस अमर विभूति की
स्मृति में—

 
1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

 सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।