पुरालेख-तिथि-अनुसार-पुरालेख-विषयानुसार
हमारे-लेखक-लेखकों से पता-
teamabhi@abhivyakti-hindi.org

१५ सितंबर २०००

पद्य में

गौरव ग्राम में
नरेन्द्र शर्मा


नई हवा में
संजीव कुमार बब्बर

समकालीन कविताओं में

फजल ताबिश

दीप्ति नवल
और
जगदीश चंद्र जीत

 


कला दीर्घा में-
 

अमृता शेरगिल, शैलज मुखर्जी, रवींद्रनाथ ठाकुर और
यामिनी राय की
कलाकृतियाँ डाकटिकटों पर

  साहित्यिक निबंध में-

महावीर प्रसाद द्विवेदी का आलेख
महाकवि माघ का प्रभात वर्णन

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी जी ने प्रस्तुत निबंध के द्वारा संस्कृत के प्रसिद्ध कवि माफ के जीवंत प्रकृति चित्रण की एक झलक प्रस्तुत करते हुए उनके प्रभात-वर्णन सम्बन्धी हृदयस्पर्शी स्थलों को अत्यन्त कुशलता से हमारे समक्ष रखा है।

 


  दो पल में-

अश्विन गांधी का कलम से
मुसाफ़िरी तीसरे दर्जे में

कोई माने या न माने, मुंबई की लोकल में मुसाफ़िरी का अनुभव ज़िन्दगी में लेना ज़रूरी है। हाँ, कमज़ोर दिल शायद ज़ख़्मी हो सकते हैं! यह वह ट्रेन है जहाँ लाखों लोग रोज़ाना एक जगह से दूसरी जगह पहुँचते हैं। जहाँ दरवाज़े कभी बंद नहीं होते, और कई इन्सान आधे अंदर, आधे बाहर लटके हुए मुसाफ़िरी करते हैं। एक या दो डिब्बे पहले दर्जे के, बाकी के सब तीसरे दर्जे के, आम जनता के लिए।

  समकालीन कहानियों में- भारत से साबिर हुसैन की कहानी गँवार

सुबह रघु के घर में कदम रखते ही उसके दिल की धड़कन अनायास बढ़ गई थी। उस समय वह छप्पर के नीचे रसोई बना रही थी। उन्होंने आकर बाबूजी के पैर छुए थे और उससे बिना कुछ बोले कमरे में जाकर लेट गए थे। थोड़ी ही देर में शायद थकान के कारण सो गए थे। जब से रघु की अधिकारी के पद पर नियुक्ति हुई है, माँ जी ने गँवार कह-कह कर उसमें हीनभावना की जड़ें इतनी गहरी जमा दी हैं कि उसमें प्रतिरोध करने की शक्ति भी शेष नहीं रही है।


साहित्य संगम में-

आंडाल प्रियदर्शिनी की तमिल कहानी का हिंदी रूपांतर- छुई मुई

"अनु, दादी को हाथ मत लगाना। बच्ची की पीठ पर पड़ी धौल पद्मावती के तन में गहरायी से उतर गई,  "कम्बख्त कितनी बार कहा है, दादी के करीब मत जाओ, उन्हें मत छुओ, उनके ऊपर मत लेटो, खोपड़ी में कुछ जाए तब न ज़िद ज़िद, तीन वर्ष की है पर ज़िद तो देखो।"

प्रकाशन : प्रवीण सक्सेना -|- परियोजना निदेशन : अश्विन गांधी
संपादन, कलाशिल्प एवं परिवर्धन : पूर्णिमा वर्मन
-|-
सहयोग : दीपिका जोशी

1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।