मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


रसोईघर- नमकीन

समोसे 

सामग्री
बाहरी हिस्से के लिए -
  • एक प्याला मैदा
  • २ बड़े चम्मच घी (मोयन के लिए)
  • पानी आटा गूँथने के लिए
  • नमक अंदाज़ से

भराव के लिए -

  • दो उबले हुए आलू छील कर मसले हुए
  • एक प्याज़ बारीक कटा हुआ
  • अदरक कसी हुई आधा छोटा चम्मच
  • हरा धनिया बारीक कटा हुआ एक बड़ा चम्मच
  • आधे नीबू का रस
  • पिसा हुआ हल्दी, धनिया, गरम मसाला आधा-आधा चम्मच
  • नमक स्वादानुसार
  • तलने के लिए घी
  • छौंक के लिए ज़ीरे और धनिया के कुछ दाने
बनाने की विधि-
बाहरी हिस्से के लिए-
  • मैदा, नमक और घी को अच्छी तरह मिलाएँ।
  • सब गुठलियाँ निकाल कर एकसार कर लें।
  • पानी थोड़ा गरम कर के मिलाएँ गूँधें और परियों जैसा हो जाए तो भीगे कपड़े से ढँक दें।
  • १० मिनट बाद फिर से अच्छी तरह गूँधें और ढँक दें।

भराव के लिए -  

  • मैदा, नमक और घी को अच्छी तरह मिलाएँ।
  • सब गुठलियाँ निकाल कर एकसार कर लें।
  • पानी थोड़ा गरम कर के मिलाएँ गूँधें और परियों जैसा हो जाए तो भीगे कपड़े से ढँक दें।
  • १० मिनट बाद फिर से अच्छी तरह गूँधें और ढँक दें।

भराव के लिए -

  • तीन बड़े चम्मच घी एक कढाई में गरम करें।
  • ज़ीरे और धनिये के कुछ दाने डालें। चिटकने लगें तो प्याज़, अदरख़ गुलाबी होने तक भूनें।
  • हल्दी, धनिया, मिर्च और गरम मसाला डालकर मिलाएँ।
  • आलू डाले अच्छी तरह मसाला मिला कर दो मिनट तक भूनें।
  • कढ़ाई आँच से उतार कर हरा धनिया और नीबू का रस मिला दें।
  • ठंडा होने दें।

बनाना और तलना -

  • मैदे को १५ बराबर हिस्सों में बाँटें।
  • लगभग ५ इंच व्यास की एक पूरी बना लें और दो हिस्सों में बराबर काट लें।
  • बाहरी हिस्से पर गीली उँगली फेर कर नम कर लें।
  • एक चम्मच आलू का भराव इसमें रखें और समोसे की तरह मोड़ कर चिपका दें।
  • सारे समोसे तैयार कर लें।
  • घी को गहरी कढ़ाई में गरम करें।
  • हल्का गरम होने पर पाँच या छे समोसे डाल कर हल्की से मध्यम आँच पर गुलाबी होने तक सेंकें।
  • कागज़ पर अतिरिक्त घी सोखने के लिए रखें।
  • गरम-गरम हरे धनिये या टमाटर की चटनी के साथ परोसे।
 
1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।