मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


विदेश में रहने वाले हिंदी साहित्यकार इस दृष्टि से महत्वपूर्ण है कि उनकी रचनाओं में अलग-अलग देशों की विभिन्न सामाजिक, सांस्कृतिक परिस्थितियाँ हिन्दी की साहित्यिक रचनाशीलता का अंग बनती हैं, विभिन्न देशों के इतिहास और भूगोल का हिन्दी के पाठकों तक विस्तार होता है। विभिन्न शैलियों का आदान प्रदान होता है और इस प्रकार हिंदी साहित्य का अंतर्राष्ट्रीय विकास भी होता है।

पी.डी.एफ. संग्रह और डाउनलोड

विश्व के विभिन्न देशों में बसे
प्रवासी भारतीय साहित्यकारों की कहानियों का संग्रह

अमेरिका से
अनिल प्रभा कुमार उसका इंतज़ार
घर
दिवाली की शाम

फिर से
बरसों बाद
बहता पानी
मैं रमा नहीं
अभिरंजन कस्तूरी कुंडल बसे
अमरेन्द्र कुमार चिड़िया
इला प्रसाद आवाजों की दुनिया
ई-मेल
एक अधूरी प्रेमक
था
मुआवज़ा
रोड टेस्ट
सेल
बैसाखिया
भारत का वीजा
होली
उमेश अग्निहोत्री क्या हम दोस्त नहीं रह सकते
बनियान
मैं विवाहित नहीं रहना चाहता
हार पर हार
उषा प्रियंवदा वापसी
नीलम जैन अंतिम यात्रा
प्र
श्न
संस्कार
डॉ प्रतिभा सक्सेना तार
स्वीकारोक्ति
पुष्पा सक्सेना विकल्प नहीं कोई
डॉ ममता तिवारी उसका नाम लीना है
रचना श्रीवास्तव पार्किंग
राम गुप्ता चयन
शौर्यगाथा
  ललित अहलूवालिया 'आतिश' काश...
सुरेंद्रनाथ तिवारी उपलब्धियाँ
ललित अहलूवालिया
लक्ष्मी शुक्ला
काश...
अनहिता
स्वदेश राणा हो ली
सीमा खुराना बूढ़ा शेर
सुदर्शन प्रियदर्शिनी धूप
निःशंक
संदर्भहीन
सेंध
सुधा ओम ढींगरा और बाड़ बन गई
ऐसी भी होली

परिचय की खोज
फन्दा
सूरज क्यों निकलता है
सुषम बेदी

अवसान
अज़ेलिया के रंगीन फूल
काला लिबास
गुनहगार
गुरुमाई
चेरी फूलों वाले दिन
तीसरी दुनिया का मसीहा
वे दोनों
संगीत पार्टी

सड़क की लय
हवनशेष उर्फ़ किरदारों के अवतार

सोमावीरा लॉन्ड्रोमैट
सौमित्र सक्सेना लड़ैती
ऑस्ट्रिया से
राकेश त्यागी लॉटरी
कुवैत से
दीपिका जोशी कच्ची नींव
सदाफूली
कैनेडा से
अश्विन गांधी अनजाना सफ़र
पिज़ा की पुकार
मरना है एक बार
सुमन कुमार घई उसने सच कहा था
स्मृतियाँ
सुरेश कुमार गोयल ग़लतफ़हमी
हिरासत के बाद
डॉ शैलजा सक्सेना चाह
पहचान एक शाम की
शार्त्र
डेनमार्क से
अर्चना पेन्यूली अगर वो उसे माफ़ कर दे
बदल जाती है ज़िंदगी
चाँद शुक्ला हदियाबादी पराई प्यास का सफ़र
अंतिम पड़ाव
पोलैंड से
  हरजेन्द्र चौधरी लेजर शो
फ्रांस से
सुचिता भट रास्ते
ब्रिटेन से
  अचला शर्मा चौथी ऋतु
दिल में एक कसबा है
उषा राजे सक्सेना इंटरनेट डेटिंग
उससे मिलना
चाइनीज कालर हरे बुंदे
प्रवास में
बीमा बीस्माट
रुख़साना
शर्ली सिंपसन शुतुरमुर्ग है
मित्रता
मेरा अपराध क्या था
वह रात
शुकराना
उषा वर्मा फ़ायदे का सौदा
मंज़ूर अली
रिश्ते
रौनी
सलमा
कादंबरी मेहरा एक खत
जीटा जीत गया
टैटू
दूसरी बार
हिजड़ा
धर्मपरायण
गौतम सचदेव आकाश की बेटी
आधी पीली आधी हरी
जीरे वाला गुड़
पूर्णाहुति
  जय वर्मा कोई सवाल क्यों
ज़किया ज़ुबैरी मन की साँकल
मारिया
मेरे हिस्से की धूप
तेजेन्द्र शर्मा अपराधबोध का प्रेत
ओवर-फ़्लो पार्किंग
एक बार फिर होली
काला सागर
गंदगी का बक्सा
ढिबरी टाइट
चरमराहट
जीना यहाँ किसके लिए

दीवार में रास्ता
देह की कीमत
धुँधली सुबह
पासपोर्ट के रंग

मलबे की मालकिन
सपने मरते नहीं
दिव्या माथुर अंतिम तीन दिन
उत्तरजीविता
फिर कभी सही
हिंदी@स्वर्ग.इन
पद्मेश गुप्त कशमकश
डेड एंड
महावीर शर्मा वैलंटाइन दिवस
वसीयत

एक पत्र बेटी के नाम
  महेन्द्र दवेसर दीपक ईबू
पुष्प दहन
शारदा
सुरभि
शैल अग्रवाल एक बार फिर
वापसी
सूखे पत्ते
अनन्य
दिये की लौ
कनुप्रिया
यादों के गुलमोहर
विसर्जन

बसेरा
नार्वे से
  सुरेश चंद्र शुक्ल शरद आलोक अंतरमन के रास्ते
आदर्श एक ढिंढोरा
मंजिल के क़रीब
वापसी
दुनिया छोटी है
मदरसे के पीछे
पोलैंड से
हरजेन्द्र चौधरी

लेजर शो

मॉरिशस से
  अभिमन्यु अनत शबनम जहर और दवा
  कुंती मुकर्जी कनेर का गुलाबी गुच्छा
    सोने का रथ
संयुक्त अरब इमारात से
अशोक कुमार श्रीवास्तव मृगतृष्णा
कृष्ण बिहारी जड़ों से कटने पर
दुश्मन से दोस्ती
हरामी
पूर्णिमा वर्मन यों ही चलते हुए
उसकी दीवाली
जड़ों से उखड़े
फुटबाल

एक शहर जादू जादू
उड़ान
  मिलिंद तिखे एक प्यार का पल हो
स्वाती भालोटिया क्या लौटेगा वसंत
सऊदी अरब से
  विद्याभूषण धर अनोखी रात
सूरीनाम से
भावना सक्सैना एक उधार बाकी है
एक और बोधिवृक्ष
खुले सिरों के जोड़
समानांतर
त्रिनिडाड और टुबैगो से
प्रेम जनमेजय क्षितिज पर उड़ती स्कार्लेट आइबिस
1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।